Tuesday, 4 June 2013

विश्व पर्यावरण दिवस पर दोहे

विश्व पर्यावरण दिवस पर .....
-------------------------------
हरी भरी धरती  रहे, हर आँगन हो फूल।
गुलमोहर की छांव  मे, जीवन हो अनुकूल ।।

इमली,केरी,आवला , रायण,बेर खजूर ।
जब तक आँगन मे रहे,खुशियाँ  थी भरपूर ।।
@संदीप सृजन

5 comments:

  1. आपकी यह पोस्ट आज के (०५ जून, २०१३) ब्लॉग बुलेटिन - विश्व पर्यावरण दिवस पर प्रस्तुत की जा रही है | बधाई

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद ...तूषार जी

    ReplyDelete
  3. पहली बार आपके चिट्ठे पर आया हूँ। पर्यावरण दिवस पर सुन्दर रचना प्रस्तुत करने के लिए आपका धन्यवाद।

    घुइसरनाथ धाम - जहाँ मन्नत पूरी होने पर बाँधे जाते हैं घंटे।

    ReplyDelete
  4. पर्यावरण पर सुंदर दोहे,बधाई......

    ReplyDelete