Friday, 7 June 2013

बरसात के दोहे- संदीप सृजन

सारे दिन चलता रहा,बूँदों का व्यापार ।
सूद धरा को मिल गया, बाकी रहा उधार ।।

उमड़-घुमड़ घन छा रहे, कामुक हुई बयार ।
बूँदों की रस धार ले, नभ से बरसा प्यार ।।
@संदीप सृजन

No comments:

Post a Comment