Tuesday, 2 July 2013

सांकली दोहे -संदीप सृजन

नया प्रयोग ...सांकली दोहे ....

आज चुटकुले देखिए, बन कवि की सन्तान ।
काव्य मंच से ला रहे, अर्थ और सम्मान ।।

अर्थ और सम्मान के , लिए लगाई  होड़ ।
कविता का क्षारण किया , भाषा तोड़ मरोड़ ।।

भाषा तोड़ मरोड़ कर, करता जो संवाद ।
आधुनिक साहित्य जगत, उसको देता दाद ।।

@संदीप सृजन

2 comments: